Yaad Shayari, Dhalti Shaam

Dhalti Shaam Ka Khula Ehsaas Hai,
Mere Dil Mein Teri Jagah Kuch Khaas Hai,
Tu Nahi Hai Yahaan Malum Hai Mujhe,
Par Dil Ye Kehta Hai Tu Yahi Aas-Paas Hai. 🌹

ढलती शाम का खुला एहसास है,
मेरे दिल में तेरी जगह कुछ खास है,
तू नहीं है यहाँ मालूम है मुझे पर,
दिल ये कहता है तू यहीं मेरे पास है। 🌹