Chai ke Cup se Uthte Dhuein me, Shayari

Chai ke Cup se Uthte Dhuein me
Teri Shakal Nazaar aati hai,
Ese Kho jate hai Tere Khyalon me
ki Aksar Meri Chai Thandi ho jaati hai.
Good Morning

चाय के कप से उठते धुंए में,
तेरी शकल नज़ार आती है,
ऐसे खो जाते है तेरे ख्यालों में,
की अक्सर मेरी चाय ठंडी हो जाती है!
Good Morning

Chai ke Cup se Uthte Dhuein me, Shayari