2 Line Shayari, Likhte hain sada

लिखते हैं सदा उन्हीं के लिए,
जिन्होंने हमें कभी पढ़ा ही नहीं।

दुआ करना दम भी उसी दिन निकले,
जिस दिन तेरे दिल से हम निकले। 💔

मिला है सब कुछ तो फरियाद क्या करे,
दिल हो परेशान तो जजबात क्या करे। 😔

तुम सोचते होगे की आज याद नहीं किया,
कभी भूले ही नहीं तो याद क्या करे।

लाखों अदाओं की अब जरुरत ही क्या है,
जब वो फ़िदा ही हमारी सादगी पर है। 💔

दुआ करना दम भी उसी दिन निकले,
जिस दिन तेरे दिल से हम निकले।

मेरे अकेलेपन को मेरा शौख ना समझो यारो,
बड़े ही प्यार से तोहफा दिया है किसी चाहने वाले ने। 😔

जिंदगी रही तो हर दिन तुम्हे याद करते रहेंगे,
भूल गया तो समझ लेना खुदा ने हमें याद कर लिया।

कोई भी रिश्ता ना होने पर भी जो रिश्ता निभाता हैं
वो रिश्ता एक दिन दिल की गहराइयों को छू जाता हैं।

इरादा कत्ल का था तो मेरा सर कलम कर देते,
क्यू इश्क मे डाल कर तुने हर साँस पर मौत लिख दी। 😔

2 Line Shayari, Likhte hain sada