Maut Shayari in Hindi

Shayari123.com Provides All Latest Maut Shayari in Hindi

Maut Shayari

Sad Shayari, Maut Ke Baad

Maut Ke Baad Yaad Aa Raha Hai Koi,
Mitti Meri Kabr Se Utha Raha Hai Koi,
Ya Khuda Do Pal Ki Mohlat Aur De De,
Udas Meri Kabr Se Ja Raha Hai Koi. 💔

मौत के बाद याद आ रहा है कोई,
मिट्ठी मेरी कबर से उठा रहा है कोई,
या खुदा दो पल की मोहल्लत और दे दे,
उदास मेरी कबर से जा रहा है कोई. 💔

Dosti Shayari, Dosti kisi ki riyasat

Dosti kisi ki riyasat nahi hoti,
maut kisi ki amanat nahi hoti,
sambhal kar rakhana hamari adalat mein kadam,
yahan dosti todne wale ki jamanat nahi hoti. 🔗👍

दोस्ती किसी की रियासत नही होती,
ज़िंदगी किसी की अमानत नही होती,
हमारी सलतनत मैं देख कर क़दम रखना,
क्योकि हमारी दोस्ती की क़ैद मैं ज़मानत नहीं होती। 🔗👍

Hindi Poetry, Koi achchi si saza

Koi achchi si SAZA
Koi achchi si SAZA do mujhko,
Chalo aisa karo BHULLA do mujhko,
Apne DIL me basi TASVIR meri,
Aisa karo JALA do usko,
Meri WAFA pe agar SHAK hai tumko,
Tu phir NAZAR se gira do mujh ko,
Muddat hogai hai tere HIJR me jagte howe,
Apni sanso ki HARARAT se sula do mujhko,
Kuch tu TARAS karo apne DIWANE per,
JAAM na sahi ZEHER hi pila do mujhko,
Tum se bichron tu MAUT aa jai mujhko,
Dil ki Gehrayon se aisi DUA do mujhko.

Love Shayari, Koi achchi si saza

Koi Achchi Si Saza Do Mujhko,
Chalo Aisa Karo Rula Do Mujhe,
Tumhein Bhulun To Maut Aa Jaye,
Dil Ki Gehrai Se Yeh Dua Do Mujhko.

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको,
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको।

Love Shayari, Mohabbat mujhe thi

Mohabbat Mujhe Thi Usi Se Sanam,
Yaadon Mein Uski Yeh Dil Tadpta Raha,
Maut Bhi Meri Chahat Ko Rok Na Saki,
Kabr Mein Bhi Yeh Dil Dhadkta Raha. 💖

मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम,
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा,
मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी,
कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा। 💖

2 Line Shayari, Aye maut tere liye

~ ऐ मौत ~

ऐ मौत तेरे लिए क्या बचेगा,
हमें तो जिंदगी ही दफना रही है।

सहारा तो बहुतों का मिला,
पर बेसहारा भी अपनों ने ही किया।

फले फूले कैसे ये गूंगी मोहब्बत,
न वो बोलते हैं न हम बोलते हैं।

साथ बैठने की औकात नहीं थी उसकी,
मैंने सर पर बिठा रखा था जिसे।

नाराज हमेशा खुशियाँ ही होती है,
ग़मों के कभी इतने नखरे नहीं होते।

उनको तो फुर्सत नहीं जरा भी,
दीवारों तुम ही बात कर लो मुझसे।

बस यहीं मोहब्बत अधूरी रह गई मेरी,
मुझे उसकी फ़िक्र रही और उसे दुनिया की।

तेरी नींदों में दखल क्यूँ दे भला,
तेरा सुकून ही मेरा मकसद बन गया है।

बन जाऊँ मैं तेरी अधूरी ख्वाहिश,
तुझे मलाल जो हो मेरा ज़िक्र जब हो।

पलटकर आने लगे है अब तो परिंदें भी,
हमारा सुबह का भुला मगर अभी तक नहीं आया।

Dard Shayari, Dard gunj raha

Dard gunj raha dil mein shehnai ki tarah,
Jism se maut ki ye sagai to nahi,
Ab andhera mitega kaise..
Tum bolo tune mere ghar mein shamma jalai to nahi!!

दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह,
जिस्म से मौत की ये सगाई तो नहीं,
अब अंधेरा मिटेगा कैसे..
तुम बोलो तूने मेरे घर में शम्मा जलाई तो नहीं!!

Sad Shayari, Koi achchi si saja do mujhko

Koi achchi si saja do mujhko..
chalo bhula do mujhko..
Tumse dosti tute us din maut aa jaye mujhko..
dil ki gahraiyon se dua do mujhko.

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको,
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको!

Yaad Shayari, Zindagi milti hai ek bar

ज़िन्दगी मिलती हैं एक बार
मौत आती हैं एक बार
दोस्ती होती हैं एक बार
प्यार होता हैं एक बार
दिल टूटता हैं एक बार
जब सब कुछ होता हैं एक बार
तो फिर आपकी याद क्यों आती हैं बार बार!!

Zindagi milti hai ek bar,
maut aati hai ek bar,
Pyar hota hai ek bar,
dil toot tha hai ek bar,
Jab sab hota hai ek bar,
to fir tumhari yaad kyun aati hai bar bar!!

Hindi Shayari, Zindagi zakhmo se Bhari hai

जिन्दगी जख्मो से भरी है,
वक्त को मरहम बनाना सीख लो,
हारना तो है एक दिन मौत से,
फिलहाल प्यार के साथ जिन्दगी जीना सीख लो..!!

Zindagi Zakhmo Se Bhari Hai,
Waqt Ko Marham Banana Seekh Lo.
Harna Toh Hai Hi Maut Ke Hatho Ekdin,
Filhaal Zindagi Ko Jeena Seekh Lo.

Maut Shayari, Itni Shiddat Se Chaha Use

Itni Shiddat Se Chaha Use Ki Khud Ko Bhi Bhula Diya,
Unke Liye Apne Dil Ko Kitni Hi Baar Rula Diya,
Ek Baar Hi Thukraya Unhone,
Aur Humne Khud Ko Maut Ki Neend Sula Diya.

Bewafa Shayari, Lamha Lamha Saansein Khatam Ho Rahi Hain

Lamha Lamha Saansein Khatam Ho Rahi Hain,
Zindagi Maut Ke Pehloo Mein So Rahi Hai,
Us Bewafa Se Naa Poocho Meri Maut Ki Wajah,
Woh To Zamaane Ko Dikhaane Ke Liye Ro Rahi Hai.

लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं,
ज़िंदगी मौत के पहलू में सो रही है,
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह,
वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है।

Taqdir Shayari, Maut Ka Kya Kasur

Maut Ka Kya Kasur Gar Zindagi Bewafa Nikle,
Kuch Pal Ruk Kar Fir Chal Nikle,
Unse Kya Kahe Wo To Sache Hai,
Jab Meri Taqdir Hi Mujse Khafa Nikle.