Hont Shayari

Hont Shayari

Bewafa To Wo Khud Thi Par Ilzam

Bewafa To Wo Khud Thi,
Par Ilzam Kisi Or Ko Deti Hai,
Pehle Naam Tha Mera Uske Honthon Par,
Ab Woh Naam Kisi Or Ka Leti Hai,
Kabhi Leti Thi Wada Mujhse Saath Na Chorne Ka,
Ab Yehi Wada Kisi Aur Se Leti Hai !

बेवफा तो वो खुद थी,
पर इल्ज़ाम किसी और को देती है,
पहले नाम था मेरा उसके होठों पर,
अब वो नाम किसी और का लेती है,
कभी लेती थी वादा मुझसे साथ ना छोड़ने का,
अब यही वादा किसी और से लेती है!!

Sad Shayari, Dil me har raaz

Dil me har raaz daba k rakhte hain,
Honto pay muskan saja k rakhtey hain,
Ye duniya sirf khushi main saath deti hay,
Is liye hum apne aanso chupa k rakhte hain. 💔

दिल मैं हर राज़ दबा कर रखते है,
होंटो पर मुस्कराहट सजाकर रखते है,
ये दुनिया सिर्फ़ खुशी मैं साथ देती है,
इसलिए हम अपने आँसुओ को छुपा कर रखते है। 💔