Berukhi Shayari

Berukhi Shayari

Sad Shayari, Kash woh samjhte is dil ki tadap ko

Yaad Shayari

Kash woh samjhte is dil ki tadap ko,
To yun humein ruswa na kiya hota,
Unki ye berukhi bhi manzoor thi hame,
Bas ek baar humein samjh liya hota। 💔💘

काश वह समझते इस दिल की तड़प को,
तो यूँ हमें रुसवा ना किया होता,
उनकी ये बेरुखी भी मंज़ूर थी हमें,
बस एक बार हमें समझ लिया होता। 💔💘

Aaj Bhi Khuda Se Pehle Tujhe Yaad Kiya Humne, Shayari

Teri Berukhi Ko Bhi Rutba Diya Humne,
Pyar Ka Har Farz Ada Kiya Humne,
Mat Soch Ke Hum Bhool Gaye Hain Tujhe,
Aaj Bhi Khuda Se Pehle Tujhe Yaad Kiya Humne! 💞

तेरी बेरूख़ी को भी रुतबा दिया हमने,
प्यार का हर फ़र्ज़ अदा किया हमने,
मत सोच के हमने भुला दिया तुम तुझे,
आज भी भगवान से पहले तुझे याद किया हमने! 💞

Dard Shayari, Aakhir kyun mujhe

Aakhir kyun mujhe tum itna dard dete ho,
Jab bhi mann mein aaye kyun rula dete ho,
Nigahen berukhi hain aur tikhe hain lafz,
Ye kaise mohabbat hain jo tum mujhse karte ho.

आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते हो,
जब भी मन में आये क्यों रुला देते हो,
निगाहें बेरुखी हैं और तीखे हैं लफ्ज़,
ये कैसी मोहब्बत हैं जो तुम मुझसे करते हो।