Hindi Shayari, Itani peeta hu ki

Itanee peeta hoon ki madahosh rehta hoon,
Sab kuchh samajhata hoon par khaamosh rahata hoon,
Jo log karte hain mujhe girane ki koshish,
Main aksar unhi ke saath rahta hoon.

इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ,
सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ,
जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश,
मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ।