2 Line Shayari, Phir koi zakhm milega

फिर कोई ज़ख़्म मिलेगा, तैयार रह ऐ दिल,
कुछ लोग फिर पेश आ रहे हैं, बहुत प्यार से।


इतनी करुंगा मुहब्बत के तू खुद कहेगी,
देखो वो.. मेरा आशिक़ जा रहा है।


जिद, जुनून, जिंदगी, जिंदादिली तुम्हीं से है,
तुम नहीं तो शब्द शब्द मायने बदल गए।


कभी कभी पहली नजर कुछ ऐसे रिश्ते बना लेती है,
जो आखिरी सासँ तक छुड़ाने से नहीं छूटती।


मौत से कहना कि हमसे नाराजगी खत्म कर ले,
वो लोग बदल गये जिनके लिये हम जिया करते थे।


कोई आदत, कोई बात, या सिर्फ मेरी खामोशी,
कभी तो, कुछ तो, उसे भी याद आता होगा।


किसी और तरीके से भी मिल जाती है क्या मोहब्बत,
मुझे तो.. दुआओं के आगे कुछ भो नही आता।


टूटे हुए सपनो और रूठे हुए अपनों ने उदास कर दिया,
वरना लोग.. हमसे मुस्कराने का राज पुछा करते थे।


दुआ कौनसी थी हमें याद नही, बस इतना याद है की,
दो हथेलिया जुडी थी एक तेरी थी एक मेरी थी।


छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी, आरजू करना,
जिसे मोहब्बत, की कद्र ना हो उसे दुआओ, मे क्या मांगना।

Hindi Shayari, Zindagi zakhmo se Bhari hai

जिन्दगी जख्मो से भरी है,
वक्त को मरहम बनाना सीख लो,
हारना तो है एक दिन मौत से,
फिलहाल प्यार के साथ जिन्दगी जीना सीख लो..!!

Zindagi Zakhmo Se Bhari Hai,
Waqt Ko Marham Banana Seekh Lo.
Harna Toh Hai Hi Maut Ke Hatho Ekdin,
Filhaal Zindagi Ko Jeena Seekh Lo.

Sad Shayari, Mene kab dard k zakhmo se

Mene kab dard k zakhmo se shikayat ki hai,
Haan mera jurm hai k maine mohabat ki hai,

Aaj fir dekha hai use mehfil me pathar bankar,
Mene aankho se nahi dil se baghawat ki hai,

Usko bhool jane ki galti bhi nahi kar sakta,
Toot kar ki hai toh sirf usi se mohabbat ki hai.

Zakhm Shayari, Mujhe acha nai lagta

Mohabbat ki baat na karo, mujhe acha nai lagta,
Kisi ki pyar par etbaar karna, ab mujhe acha nai lagta,

Gujar gaye jo din wo wapas laut kar nahi aate,
Lekin un dino ko yaad karna ab mujhe acha nai lagta,

Mujhe maloom hain ki wo shaqs bewafa tha,
Magar mujhe kisi ko bewafa kahna acha nahi lagta,

Zakhm bahut diye hain usne es dil-e-nadan ko,
Zakhm hum bhi dete per hume badla lena acha nahi lagta.

Sad Shayari, Ab to aansu bhi nahi aate aankhon mein

Ab to aansu bhi nahi aate aankhon mein,
Har zakhm nasur sa lagata hai,
Mohabbat aise mod par laei hai ke..
Ab apna naam bhi begana sa lagta hai. 💔

अब तो आँसू भी नही आते आँखों में,
हर ज़ख़्म नासूर सा लगता है,
मोहब्बत ऐसे मोड़ पर लाई है के..
अब अपना नाम भी बेगाना सा लगता है। 💔

Sad Shayari, Uljhan bhare din

Uljhan bhare din hain mere, tanha hain raate,
De jate hain zakhm, mujhe tere vo baaten,
Ham bhi badh ke thaam lete tera daaman,
Yoon tune hamako agar rulaaya na hota,
Teree najaro ke ham bhi ek nazaare hote,
Jo tune apani najaro mein hame basaaya hota. 💔

उलझन भरे दिन हैं मेरे, तनहा हैं राते,
दे जाती हैं जख्म, मुझे तेरी वो बातें,
हम भी बढ़ के थाम लेते तेरा दामन,
यूँ तूने हमको अगर रुलाया ना होता,
तेरी नजरो के हम भी एक नज़ारे होते,
जो तूने अपनी नजरो में हमे बसाया होता। 💔

Dard Shayari, Teer ka dard

Teer ka dard sa lagta hai seene mein mere,
Jab kaapata dekh bhi tum muskura dete ho,
Log to murde ko bhi seene se laga kar pyar karte hain,
Phir kyun mere kareeb aakar tum har baar zakhm naya dete ho.

तीर का दर्द सा लगता है सीने में मेरे,
जब कांपता देख भी तुम मुस्कुरा देते हो,
लोग तो मुर्दे को भी सीने से लगा कर प्यार करते हैं,
फिर क्यों मेरे करीब आकर तुम हर बार ज़ख्म नया देते हो।

Yaad Shayari, Aapki kami se

Aapki kami se dil mera udaas hai,
Par mujhe to aapse milne ki aas hai,
Zakhm nahi par dard ka ehsaas hai,
Aisa lagta hai
Jaise dil ka ek tukda aapke paas hai.

आपकी कमी से मेरा दिल उदास हैं,
पर मुझे तो आपसे मिलने की आस हैं,
जख़्म नहीं पर दर्द का एहसास है
ऐसा लगता है..
जैसे दिल का एक टुकड़ा आपके पास हैं।

Dard Shayari, Dard Kitna Hai

Dard Kitna Hai Bata Nahi Sakte,
Zakhm Kitne Hain Dikha Nahi Sakte,
Ankhon Se Samjh Sako To Samjh Lo,
Ansoo Gire Hain Kitne Gina Nahi Sakte.

दर्द कितना है बता नहीं सकते,
ज़ख़्म कितने हैं दिखा नहीं सकते,
आँखों से खूद समझ लो..
आँसू गिरे हैं कितने गिना नहीं सकते।

Dard Shayari, Hanste Huye Zakhnon

Hanste Huye Zakhmon Ko Bhulane Lage Hain Hum,
Har Dard Ke Nishaan Mitaane Lage Hain Hum,
Ab Aur Koi Zulm Satayega Kya Bhala,
Zulmon Sitam Ko Ab Toh Satane Lage Hain Hum.

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

Heart Torching Shayari, Khamosh chehre pe

Khamosh chehre pe hazaro pahre hote hain,
Hasti huyi aankho me zakhm gahre hote hain,
Jinko, sada ke liye bhool jana accha samjhte hain,
Shayad unse hi dil ke rishte gahre hote hain!

खामोश चेहरे पर हजार पहरे होते है,
हंसती आंखों में भी जख्म गहरे होते है,
जिनसे अक्सर रूठ जाते है हम,
असल में उनसे ही रिश्ते गहरे होते है! 💞