Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The, Shayari

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The Seene Mein Magar,
Ab Ke Woh Dard Hai Ke Ragein TootTi Hain. 💔

तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,
अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं। 💔

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The, Shayari