Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun, Shayari

Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun,
Zindagi Apni Teri Chahat Me Sanwar Lun,
Mulakaat Ho Tujhse Kuch Is Kadar Meri,
Saari Umr Bas Ek Mulakaat Me Gujar Lun. 😔

तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ,
ज़िंदगी अपनी तेरी चाहत में सवार लूँ,
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,
सारी उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़ार लूँ। 😔

Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun, Shayari