Sad Shayari, Ulfat ka aksar yahi dastur

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है!

Ulfat ka aksar yahi dastur hota hai.
Jise chaho wahi humse dur keyo hota hai.
Dil tut kar keyo bikharta hai is kadar.
Jaise kanch ka khilauna chur chur hota hai.