Sad Shayari, Raaste khud hi

Raaste khud hi tabahi ke nikale humne,
Kar diya dil kisi patthar ke hawale humne,
Hum ko maloom kya shaey hai mohabbat logoon,
Khud apna ghar phoonk ke dekhe hain ujale humne.

रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हम ने,
कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हमने,
हाँ मालूम है क्या चीज़ हैं मोहब्बत यारो,
अपना ही घर जला कर देखें हैं उजाले हमने।

Sad Shayari, Raaste khud hi