Sad Shayari, Muskurate palko pe

Muskurate palko pe sanam chale aate hein,
Aap kya jaano kahan se hamare ghum aate hain,
Aaj bhi us mod par khade hain,
Jaha kisi ne kaha tha ke theron hum abhi aate hain.

मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,
आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,
आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,
जहाँ किसी ने कहा था कि ठहरो हम अभी आते है।

Sad Shayari, Muskurate palko pe