Sad Shayari, Meri jindagi ko tanhai

Meri jindagi ko tanhai dhundh leti hai
meri har khushi ko rusavai dhundh leti hai,
thahari hui hain manjilen andheron mein kab se,
mere jakhm ko game-judai dhundh leti hai!

मेरी जिन्दगी को तन्हाई ढूँढ लेती है,
मेरी हर खुशी को रुसवाई ढूँढ लेती है,
ठहरी हुई हैं मंजिलें अंधेरों में कबसे,
मेरे जख्म को गमे-जुदाई ढूँढ लेती है!