Sad Shayari, Jab bhi karib aata hu

Jab bhi karib aata hu batane ke liye,
zindgi door rakhti hai satane ke liye,
mehfilo ki shaan na samjhna mujhe,
main to hansta hu gam chupane ke liye.

जब भी करीब आता हूँ बताने के लिये,
जिंदगी दूर रखती हैं सताने के लिये,
महफ़िलों की शान न समझना मुझे,
मैं तो अक्सर हँसता हूँ गम छुपाने के लिये।