Sad Shayari, Intezaar ki arzoo ab kho gayi hai

Intezaar ki arzoo ab kho gayi hai,
Khamoshion ki aadat si ho gayi hai,
Na shiqwa raha na shiqayat kisi se,
Bas ek mohabbat hai,
Jo inn tanhayion se ho gayi hai.

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न सीकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है!