Aankhon ke raste dil mein utar kar nahi dekha, Shayari

आंखों के रास्ते दिल में उतर कर नही देखा,
तूने मेरे सीने में अपनी यादों का घर नही देखा,
तेरे इश्क की वहशत ने पागल बना दिया है मुझे,
तेरी गलियों की खाक के सिवा मैंने कुछ नही देखा! 💔

Aankhon ke raste dil mein utar kar nahi dekha, Shayari