Love Shayari, Kai chehre lekar log

Kai chehre lekar log yahan jiya karte hain,
Hum to bas ek hi chehre se pyar karte hain,
Na chupaya karo tum apne is chehre ko,
Kyuki hum ise hi dekh ke jiya karte hai.

कई चेहरे लेकर लोग यहाँ जिया करते हैं,
हम तो बस एक ही चेहरे से प्यार करते हैं,
ना छुपाया करो तुम इस चेहरे को,
क्योंकि हम इसे देख के ही जिया करते हैं।

Dosti Shayari, Dost teri dosti pe

Dost teri dosti pe naaz karte hain,
Har waqt milne ki fariyaad karte hain,
Hame nahi pata gharwale batate hain,
Ki hum neend mei bhi aapse baat karte hain.

ए दोस्त तेरी दोस्ती पर नाज़ करते हैं,
हर वक्त मिलने की फ़रियाद करते हैं,
हमें नहीं पता घर वाले बताते हैं,
हम नींद में भी आपसे बात करते हैं।

Dosti Shayari, Dosti bhi kya gazab

Dosti Bhi Kya Gazab Ki Cheez Hoti Hai,
Magar Ye Bhi Bahut Kam Logo Ko Naseeb Hoti Hai,
Jo Pakad Lete Hai Zindagi Me Daaman Iska,
Samaj Lo Ke Jannat Unke Bilkul Kareeb Hoti Hai.

दोस्ती भी क्या गज़ब की चीज़ होती है,
मगर ये भी बहोत कम लोगों को नसीब होती है,
जो पकड़ लेते है ज़िन्दगी में दामन इसका,
समझ लो के जन्नत उनके बिलकुल करीब होती है।

Dard Shayari, Dil ka dard

Dil ka dard ek raaz banke reh gaya,
Mera bharosa mazak banke reh gaya,
Dilo ke saudagar se dillagi kar bethe,
Shayad is liye mera pyaar mazak ban ke reh gaya.

दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया,
दिल के सोदागरो से दिललगी कर बैठे,
शायद इसीलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया।

Bewafa Shayari, Do dilo ki dhadkano me

Do Dilo Ki Dhadkano Me Ek Saaz Hota Hai,
Sab Ko Apni Apni Mohobbat Pe Naaz Hota Hai,
Us Me Se Har Ek Bewafa Nahi Hota,
Us Ki Bewafai Ke Peeche Bhi Koi Raaz Hota Hai.

दो दिलों की धड़कनों में एक साज़ होता है,
सबको अपनी-अपनी मोहब्बत पर नाज़ होता है,
उसमें से हर एक बेवफा नहीं होता,
उसकी बेवफ़ाई के पीछे भी कोई राज होता है!

Yaad Shayari, Meri Yaadon Mein

Meri Yaadon Mein Tum Ho Ya Mujh Mein Hi Tum Ho,
Mere Khwabon Mein Tum Ho Ya Mera Khwab Hi Tum Ho,
Dil Mera Dhadak Ke Puche Baar-Baar Ek Hi Baat,
Meri Jaan Mein Tum Ho Ya Meri Jaan Hi Tum Ho!

मेरी यादो मे तुम हो, या मुझ मे ही तुम हो,
मेरे खयालो मे तुम हो, या मेरा खयाल ही तुम हो,
दिल मेरा धडक के पूछे, बार बार एक ही बात,
मेरी जान मे तुम हो, या मेरी जान ही तुम हो।

Love Shayari, Kab unki palkon se

Kab Unki Palkon Se Izhaar Hoga,
Dil K Kisi Kone Mein Hamare Liye Pyar Hoga,
Guzar Rahi Hai Raat Unki Yaad Me,
Kabhi To Unko Bhi Hamara Intezar Hoga.

कब उनकी पलकों से इज़हार होगा,
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा,
गुज़र रही है हर रात उनकी याद में,
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।

2 Line Shayari, Manzile hamare kareeb se

मंज़िले हमारे करीब से गुज़रती गयी जनाब,
और हम औरो को रास्ता दिखाने में ही रह गये।


सारे सितारे फ़लक से ज़मीं पर जब उतर कें आयेंगे,
फिर हम तेरी यादों के साथ रात भर दिवाली मनायेंगे।


रब्ब जाने क्या कशिश है इस मोहब्बत में..
इक अंजान, हमारा हकदार बन बैठा।


कैसी मुहब्बत हैं तेरी महफ़िल मे मिले तो,
अन्जान कह दिया, तनहा ज़ो मिले तो जान कह दिया।


लफ़्ज़ों में बातें बयां कर पाते तो कब का,
कर देते.. मगर बयां करना नही आता हमे।


दिल साफ़ करके मुलाक़ात की आदत डालो,
धूल हटती है तो आईने भी चमक उठते हैं।


मैने इक माला की तरह तुमको अपने आप मे पिरोया हैं,
याद रखना टूटे अगर हम तो बिखर तुम भी जाओगे।


कोई मरहम नहीं चाहिये, जख्म मिटाने के लिये,
तेरी एक झलक ही काफी है मेरे ठीक हो जाने के लिये।


अपने दिल से कह दो किसी और से मोहब्बत की ना सोचे,
एक मैं ही काफी हूँ सारी उम्र तुम्हे चाहने के लिए।


उसे न चाहने की आदत, उसे चाहने का जरिया बन गया,
सख्त था मैं लड़का, अब प्यार का दरिया बन गया।

2 Line Shayari, Jalwe to bepanah the

जलवे तो बेपनाह थे इस कायनात में,
ये बात और है कि नजर तुम पर ही ठहर गई।


में रंग हुँ तेरे चेहरे का, जितना तू
खुश रहेगा उतना में जाऊंगा जाऊँ गा


हम अल्फाजो को ढूढते रह गए,
और वो आँखों से गज़ल कह गए।


हमें मोहब्बत है तुमसे खुशबू की तरह,
और खुशबू का कोई पैमाना नहीं होता।


तुम्हे हाथो से नहीं दिल से छुना चाहते हैं,
ताकि तुम ख्वाबों में नहीं मेरी रूह में आ सको।


रौशनी में कुछ कमी रह गई हो तो..
बता देना दिल आज भी हाजिर है जलने को।


ना दिल की चली ना आँखों की,
हम तो दीवाने बस तेरी मुस्कान के हो गए।


बचपन के खिलौने सा कहीं छुपा लूँ तुम्हें,
आँसू बहाऊँ, पाँव पटकूँ और पा लूँ तुम्हें।


जब यार ने उठा कर ज़ुल्फ़ों के बाल बाँधे
तब मैं ने अपने दिल में लाखों ख़याल बाँधे।


ना चाहते हुए भी जब दिल मेरा छूते हो,
रूहानी मोहब्बत पर और यक़ीन आ जाता है।

Hindi Poetry, Govardhan ki roti

गोवर्धन

गोवर्धन की रोटी, बरसाने की दाल।
छप्पन भोग में भी नही ऐसा कमाल।

गोवर्धन का आचार।
बदल देता है विचार।

गोवर्धन का पानी।
शुद करे वाणी।

गोवर्धन के फल और फूल।
उतार देती है जन्मों -जन्मों की घूल।

गोवर्धन की छाया।
बदल देती है काया।

गोवर्धन का रायता।
मिलती है चारों और से सहायता।

गोवर्धन के आम।
नई सुबह नई शाम।

गोवर्धन का हलवा।
दिखाता है जलवा।

गोवर्धन की सेवा।
मिलता है मिश्री और मेवा।

मानसीगंगा का स्नान।
चारों धाम के तीर्थ के समान।

गोवर्धन को जो सजाऐ।
उस का कुल् सवर जाये।

गोवर्धन का जो सवाली।
उसकी हर दिन होली हर रात दीवाली।।

बोलो गोवर्धन नाथ की जय