Safar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho, Shayari

Safar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho,
Nazar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho,
Phool Bahut Dekhe Hain Is Gulshan Mein,
Khusbu Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho. 💕

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो! 💕

Safar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho, Shayari