Pal bhar karte hai baat phir mahino, Shayari

Love Shayari

Pal bhar karte hai baat,
phir mahino ki duri banate hai,
ye kaisi mohabbat hai,
jo wo tanakhvaah ki tarah nibhate hai. 💘

पल भर करते है बात,
फिर महिनों की दूरी बनाते है,
ये कैसी मोहब्बत है
जो वो तनख्वाह की तरह निभाते है। 💘

Pal bhar karte hai baat phir mahino, Shayari