Love Shayari, kab tak wo mera

Kab tak wo mera hone ka intezaar karega,
kudh toot kar wo ek din mujhse puar karega,
ishq ki aag me usko itna jala denge,
ki izhaar wo mujhse sar-e-bazaar karega!

कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,
इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे,
कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा। <3

Love Shayari, kab tak wo mera