Love Shayari, Mohabbat To Sirf Ek Ittefaq Hai

Mohabbat To Sirf Ek Ittefaq Hai,
Ye To Do Dilo Ki Mulakat Hai,
Mohabbat Ye Nahi Dekhti Ki Din Hai Yaa Raat Hai,
Ismein To Sirf Wafadari Aur Jajbaat Hai! 💖

मोहब्बत तो सिर्फ एक इत्तेफाक है,
ये तो दो दिलों की मुलाकात है,
मोहब्बत ये नहीं देखती कि दिन है या रात है,
इसमें तो सिर्फ वफादारी और जज़्बात है। 💖

Love Shayari, Mohabbat To Sirf Ek Ittefaq Hai