Yaad Shayari, Wo nahi aati

वो नहीं आती पर निशानी भेज देती है
ख्वाबो में दास्ताँ पुरानी भेज देती है
कितने मीठे हे उसकी यादो के मंज़र।
कभी कभी आँखों में पानी भेज देती है!!

Wo nahi aati par nishani bhej deti hai,
khwabon mein dastan purani bhej deti hai,
kitne mithe hain uske yadon ke manzar,
kabhi kabhi ankhon mai pani bhej deti hai.