True Shayari, Na sangharsh na takleef

ना संघर्ष न तकलीफ
तो क्या मज़ा है जीने में
बड़े बड़े तूफ़ान थम जाते हैं
जब आग लगी हो सीने में..

Na sangharsh na takleef
To kya maza hai jene mein
Bade bade toofan tham jate hai
Jab aag lagi ho seene mein..