True Shayari, Kagaj k note se

कागज़ के नोटों से आखिर
किस किस को खरीदोगे,
किस्मत परखने के लिए यहाँ आज भी
सिक्का ही उछाला जाता है!

Kagaz k note se akhir
Kis kis ko khareedoge,
Kismat parakhne k kiye yaha aaj bhi
Sikka hi uchala jata hai.

True Shayari, Kagaj k note se