True Shayari, Jaruri nahi ki

ज़रूरी नहीं कि हर समय लबों,
पर भगवान का नाम आये,
वो लम्हा भी भक्ति से कम नहीं जब,
इंसान इंसान के काम आये।

True Shayari, Jaruri nahi ki