True Shaayri, Unko ye shikayat hai

उनको ये शिकायत है कि मैं बेवफाई पे नहीं लिखता,
और मैं सोचता हूं कि मैं उनकी रुसवाई पे नहीं लिखता..
ख़ुद अपने से ज्यादा बुरा जमाने में कौन है?
मैं इसलिए औरों की बुराई पे नहीं लिखता..
कुछ तो आदत से मजबूर हैं और कुछ फितरतों की पसंद है
जख्म कितने भी गहरे हों, मैं उनकी दुहाई पे नहीं लिखता..!!

Unko ye shikayat hai ki main bewafai pe nahi likhta,
Aur main sochta hun ki main unki ruswai pe nahi likhta,
Khud apne se jyada bura jamane me kaun hai,
Is liye main auron ki buraai pe nahi likhta,
Kuchh toh aadaton se majbur hain aur kuchh fiaraton ki pasand hai,
Jakhm kitne bhi gehre ho, main unki duhai pe nahi likhta,

True Shaayri, Unko ye shikayat hai