Main teri mast nigahi ka bharam rakh lunga, Shayari

Main teri mast nigahi ka bharam rakh lunga,
Hosh aya bhi to keh dunga mujhe hosh nahi,
Yeh alag baat hain saki mujhe hosh nahi,
Warna main kuch bhi hu ehsaan faramosh nahi.

मैं तेरी मस्त-निगाही का भरम रख लूँगा,
होश आया भी तो कह दूँगा मुझे होश नहीं,
ये अलग बात है साक़ी के मुझे होश नहीं,
वरना मैं कुछ भी हूँ एहसान-फ़रामोश नहीं।

Main teri mast nigahi ka bharam rakh lunga, Shayari