Love Shayari, Har Baar Mere Saamne

हर बार मेरे सामने आती रही हो तुम,
हर बार तुम से मिल के बिछड़ता रहा हूँ मैं,
तुम कौन हो ये खुद भी नहीं जानती हो तुम,
मैं कौन हूँ ये खुद भी नहीं जानता हूँ मैं।

Har Baar Mere Saamne Aati Rahi Ho Tum
har baar tum se mil ke bichhadta raha hoon main
tum kaun ho ye khud bhi nahi jaanti ho tum
main kaun hoon ye khud bhi nahi jaanta hoon main