Jahan yaad na aaye teri, Shayari

जहाँ याद न आये तेरी वो तन्हाई किस काम की,
बिगड़े रिश्ते न बने तो खुदाई किस काम की,
बेशक़ अपनी मंज़िल तक जाना है हमें..
लेकिन जहाँ से अपने न दिखें, वो ऊंचाई किस काम की।

Jahan yaad na aaye teri, Woh tanhaai kis kaam ki,
Bigde rishte na bane, To khudaai kis kaam ki,
Beshak apni manzil tak jana hai hamein,
Lekin jahaan se apne na dikhein, Woh oonchaai kis kaam ki!!

Jahan yaad na aaye teri, Shayari