Hindi Shayari, Uljhi sham ko pane ki

Uljhi sham ko pane ki zid na karo,
Na ho apna use apnane ki zid na karo,
Is Samander me tuffan bahut aate hain,
Iske shahil par ghar basane ki zid na karo!

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो।