Hindi Shayari, Ulfat ki zanjeer

उल्फत की जंजीर से डर लगता हैं,
कुछ अपनी ही तकदीर से डर लगता हैं,
जो जुदा करते हैं, किसी को किसी से,
हाथ की बस उसी लकीर से डर लगता हैं.

Ulfat ki zanjeer se dar lagta hai,
kuch apni takdeer se dar lagta hai,
jo kisi ko kisi se juda karti hai,
hath ki us lakeer se dar lagta hai.