Hindi Shayari, Tarika mere qatil ka

वह मेरा वेहम था की वो मेरा हमसफ़र है,
वह चलता तो मेरे साथ था पर किसी और की तलाश में।


तरीका मेरे क़त्ल का, ये भी इजाद करो..
कि मर जाऊँ मै हिचकियो से, मुझे इतना याद करो।


गर मेरी चाहतों के मुताबिक ज़माने की हर बात होती
तो बस मैं होता तुम होती और सारी रात बरसात होती।


जब फुरसत मिले तो चाँद से मेरे दर्द की कहानी पुछ लेना,
एक वो ही है मेरा हमराज तेरे जाने के बाद।


नकाब तो उनका सर से ले कर पांव तक था..
मगर आँखे बता रही थी के मोहब्बत के शौकीन थे वो।

Hindi Shayari, Tarika mere qatil ka