Hindi Shayari, Satrangi aasama wale

सतरंगी अरमानों वाले, सपने दिल में पलते हैं
आशा और निराशा की, धुन में रोज मचलते हैं ,
बरस-बरस के सावन सोंचे, प्यास मिटाई दुनिया की
वो क्या जाने दीवाने तो सावन में ही जलते है ..!!

Hindi Shayari, Satrangi aasama wale