Hindi Shayari, Sabki apni apni

Sabki apni apni jeene ki shailee hai,
Kisi ki chaadar saaf kisi ki maili hai,
Saj tak sulajha nahi paya hai koo,
Zindagi to bas ek ansuljji paheli hai.

सबकी अपनी अपनी जीने की शैली है,
किसी की चादर साफ किसी की मैली है,
आज तक सुलझा नहीं पाया है कोई,
जिंदगी तो बस एक अनसुलझी पहेली है।

Hindi Shayari, Sabki apni apni