Hindi Shayari, Niklu agar maikhane se

निकलूं अगर मयखाने से तो
शराबी ना समझना दोस्त,
मंदिर से निकलता..
हर शख्स भी तो भक्त नहीं होता!

Hindi Shayari, Niklu agar maikhane se