Hindi Shayari, Kuch alag hi karna hai

कुछ अलग ही करना है
तो वफ़ा करो दोस्त,
वरना मज़बूरी का नाम लेकर
बेवफाई तो सभी करते है.

Hindi Shayari, Kuch alag hi karna hai