Hindi Shayari Collection, Tu meri dhakan

तू मेरी धड़कन, तेरी रूह,
तू अगर हैं, तो मैं हूँ।


कुछ लौग ये सोचकर भी मेरा हाल नहीं पुँछते..
कि यै पागल दिवाना फिर कोई ‪ शायरी न सुना देँ।


टहनियाँ बेचारी नाहक थरथराती रहती हैं..


ये ना पूछ कितनी शिकायतें हैं तुझसे ऐ ज़िन्दगी,
सिर्फ इतना बता की तेरा कोई और सितम बाक़ी तो नहीं।


वक्त की यारी तो हर कोई करता है मेरे दोस्त
मजा तो तब है जब वक्त बदल जाये पर यार ना बदले।


लगता है मेरी नींद का किसी के साथ..
चक्कर चल रहा है सारी सारी रात गायब रहती है।


अहसास मिटा, तलाश मिटी, मिट गई उम्मीदें भी..
सब मिट गया पर जो न मिट सका वो है यादें तेरी।


अरे पगली किराए का घर समझकर ही मेरे दिल मेँ बस जाओ
मैँ समझूँगा कि मेरे दिल का मकान मालिक रहने आया है।

Hindi Shayari Collection, Tu meri dhakan