Dosti Shayari, Duriyo Se Koi Fark Nahi Padta

Duriyo Se Koi Fark Nahi Padta,
Baat To Dilo Ki Nazdikiyo Se Hoti Hai,
Dosti To Kuch Aap Jaiso Se Hai,
Warna Mulaqat To Jane Kitno Se Hoti Hai.

दूरियों से फर्क पड़ता नहीं,
बात तो दिलों कि नज़दीकियों से होती है,
दोस्ती तो कुछ आप जैसो से है,
वरना मुलाकात तो जाने कितनों से होती है.