Dard Shayari, Majburi mein jab koi

मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है,
देकर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

Majburi mein jab koi juda hota hai,
Zaruri nahi ke wo bewafa hota hai,
De kar wo aapki aankho me aansu,
Akele me aapse bhi zyada rota hai.