Dard Shayari, Khud ko kuch ise tarha

खुद को कुछ इस तरह तबाह किया,
इश्क़ किया क्या ख़ूबसूरत गुनाह किया,
जब मुहब्बत में न थे तब खुश थे हम,
दिल का सौदा किया बेवजह किया।

Khudh ko kuch is tarah tabah kiya,
Ishq kiya kya khubsoorat gunaah kiya,
Jab mohobbat me na the tab kush the ham,
Dil ka soda kiya bewajah kiya.