Dard Shayari, Dekh kar mera naseeb

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी।

Dekh mera NASEEB meri TAQDEER rone lagi,
LAHU ke alfaaz dekh TEHREER rone lagi,
Tere HIJAR me meri halt aisi huyee,
SURAT dekh kar khud TASVEER rone lagi.