Dard Shayari, Betaab se rehte hai

बेताब से रहते हैं उसकी याद में अक्सर,
रात भर नहीं सोते हैं उसकी याद में अक्सर,
जिस्म में दर्द का बहाना सा बना कर,
हम टूट कर रोते हैं उसकी याद में अक्सर।

Betaab se rehte hain teri yaad me aksar,
Raat bhar nahi sote teri yaad me aksar.
Bedard zamane ka bahana sa bana ke,
Hum toot k rote hain teri yaad me aksar.

Dard Shayari, Betaab se rehte hai