Chand taro se raat jagmagane lagi, Shayari

Chand taro se raat jagmagane lagi,
Phoolon ki khushboo se duniya mehkane lagi,
So jaiyo raat ho gayi hai kafi,
Nindiya rani bhi aapko dekhne hai aane lagi.

चाँद तारो से रात जगमगाने लगी,
फूलों की खुशबू से दुनिया महकने लगी,
सो जाइये रात हो गयी है काफी,
निंदिया रानी भी आपको देखने है आने लगी।
GOOD NIGHT