Bewafa Shayari, Tu to hass hass kar

तू तो हँस हँसकर जी रही है,
जुदा होकर भी..
कैसे जी पाया होगा वो,
जिसने तेरे सिवा जिन्दगी कभी सोची ही नहीं..

Bewafa Shayari, Tu to hass hass kar