Bewafa Shayari, Raat ki gehrai

Raat kee gehrai aankhon mein utar aai,
Kuchh khwab the aur kuchh mere tanhai,
Ye jo palkon se bah rahe hain halke-halke,
Kuchh to majbure thi kuchh tere Bewafai.

रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के,
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई।