Bewafa Shayari, Her bhul teri

हर भूल तेरी माफ़ की..
हर खता को तेरी भुला दिया..
गम है कि, मेरे प्यार का..
तूने बेवफा बनके सिला दिया।

Bewafa Shayari, Her bhul teri