Barish Shayari, Aaj mausam kitna khushgawar

Aaj mausam kitna khamosh guwaar ho gaya
khatm sabhi ka intezaar ho gaya
barish ki bunde giri kuch is trah se
laga jaise aasmaan ko zameen se pyar ho gaya. ⛈

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया,
खत्म सभी का इंतज़ार हो गया,
बारिश की बूंदे गिरी कुछ इस तरह से,
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया! ⛈