Hindi Shayari

New Shayari in Hindi: Looking for Best Hindi Shayari, We are providing Large Collection of Latest Shayari. I hope you liked this Hindi Shayari collection. ‘Shayari is a form of poetry, that allows a person to express his deep feelings from bottom of the heart through words. Each couplet of a Ghazal is known as Sher, which forms a Shayari.’ You will get all the Latest and updated collection of Best Shayari. Choose your favorite Hindi Shayari and share. You would just like these Shayari once you read all through this. So Friends, Share this Stylish Shayari on Facebook and Whatsapp. Keep Visit and enjoy Latest Shayari Collection.
Hindi Shayari

Here is Latest Hindi Shayari, Shayari in Hindi.

Unho ne apne labo se lagaya aur, Shayari

Unho ne apne labo se lagaya aur chhod diya,
Ve bole itna jahar kafi hai teri katra katra maut ke lie! 💔

उन्हो ने अपने लबो से लगाया और छोड़ दिया,
वे बोले इतना जहर काफी है तेरी कतरा कतरा मौत के लिए! 💔

Odh kar mitti ki chadar, Shayari

Odh kar mitti ki chadar hum bhi so jayenge,
Ek din aayega ham bhi dastan ho jayenge! 🎭

ओढ़ कर मिट्टी की चादर हम भी सो जायेंगे,
एक़ दिन आयेगा हम भी दास्ताँ हो जाएंगे! 🎭

Ham na ajnabi hai na paraye hain, shayari

love shayari hum na ajnabi hai na paraye

हम ना अजनबी हैं ना पराये हैं,
आप और हम एक रिश्ते के साये है,
जब जी चाहे महसूस कर लीजियेगा,
हम तो आपकी मुस्कुराहटों में समाये है। ❣

Sab hamse Shikayat karte hain, shayari

सब हमसे शिकायत करते हैं..
क़ि हम पत्थर होते जा रहे हैं,
कोई इन हालातों से भी तो पूछो,
जो बद से बदतर होते जा रहे हैं।

Khul kar tarif bhi kiya karo, Shayari

Hindi shayari

Khul kar tarif bhi kiya karo,
Dil khol hans bhi diya karo,
Kyun bandh ke khud ko rakhte ho,
Panchhi ki tarh bhi jiya karo. 🧚‍♂️🧚‍♀️

खुल कर तारीफ़ भी किया करो,
दिल खोल हँस भी दिया करो,
क्यूँ बाँध के ख़ुद को रखते हो,
पंछी की तरह भी जिया करो। 🧚‍♂️🧚‍♀️

Zindagi sundar hain par mujhe jeena nahi aata

Zindagi sundar hain par mujhe jeena nahi aata,
Har cheez mein nasha hain par mujhe pina nahi aata,
sab mere bina jee sakte hain,
par mujhe apke bina jina nahi aata. ☝️

जिंदगी सुन्दर हैं पर जीना नही आता,
हर चीज मे नशा हैं, पर पीना नही आता,
सब मेरे बगैर जी सकते हैं,
बस मुझे ही किसी के बीना जीना नही आता! ☝️

Chhupi hai anginat chingariyan lafzon ke daman mein, Shayari

छुपी है अन-गिनत चिंगारियाँ लफ़्ज़ों के दामन में,
ज़रा पढ़ना ग़ज़ल की ये किताब आहिस्ता आहिस्ता,
मुकम्मल हो ही गयी आखिर, आज ज़िन्दगी की ग़ज़ल,
मेरे महबूब ने भी उसको पढ़कर, वाह-वाह बोला है। 💕

Main teri mast nigahi ka bharam rakh lunga, Shayari

Main teri mast nigahi ka bharam rakh lunga,
Hosh aya bhi to keh dunga mujhe hosh nahi,
Yeh alag baat hain saki mujhe hosh nahi,
Warna main kuch bhi hu ehsaan faramosh nahi.

मैं तेरी मस्त-निगाही का भरम रख लूँगा,
होश आया भी तो कह दूँगा मुझे होश नहीं,
ये अलग बात है साक़ी के मुझे होश नहीं,
वरना मैं कुछ भी हूँ एहसान-फ़रामोश नहीं।

Sitaron ko aankhon mein mehfooz rakhna, Shayari

Sitaron ko aankhon mein mehfooz rakhna,
badi der tak raat hi raat hogi,
musafir hain hum, musafir ho tum bhi,
kisi mod pe phir mulaqat hogi. 💫

सितारों को आँखों में महफूज रखना,
बड़ी देर तक रात ही रात होगी,
मुसाफिर हैं हम, मुसाफिर हो तुम भी,
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी। 💫

2 Line Shayari #224, Khud ko samet ke

खुद को समेट के, खुद में सिमट जाते हैं हम,
एक याद उसकी आती है फिर से बिखर जाते है हम।

जो दिल के आईने में हो, वही है प्यार के क़ाबिल,
वरना दीवार के क़ाबिल तो हर तस्वीर होती है।

साफ़ दामन का दौर तो कब का खत्म हुआ साहब,
अब तो लोग अपने धब्बों पर गुरूर करने लगे हैं।

ठहाके छोड़ आये हैं अपने कच्चे घरों मे हम,
रिवाज़ इन पक्के मकानों में बस मुस्कुराने का है।

एक बात बोलूँ बड़ी बरकत है तेरे ईश्क में,
जब से हुआ है बढ़ता ही ज़ा रहा है। 💘

किस कदर अजीब है ये सिलसिला-ए-इश्क़,
मोहब्बत तो कायम रहती है पर इन्सान टूट जाते है।

एक चाहत होती है, जनाब़ अपनों के साथ जीने की,
वरना पता तो हमें भी है कि ऊपर अकेले ही जाना है।

लगता है आँखों से अश्क़ों की तरह बरसते रहेंगे हम,
ताउम्र प्यार के लिए इसी तरह तरसते रहेंगे हम। 🐾 ✍

चैन तुमसे है करार तुमसे है जिंदगी की बहार तुमसे है,
क्या करुंगा पूरी दुनिया को लेकर मेरे दिल को तो बस प्यार तुमसे है।

माना की खुद चलकर आए है हम तेरे दर पर ऐ मोहब्बत,
लेकिन दर्द, दर्द और सिर्फ दर्द ये कहाँ की मेहमान नवाजी है। 💔

2 Line Shayari #223, Ab itna bhi sukh

अब इतना भी खूब ना लिखा करो यारो,
आप सबके अल्फ़ाज़ों से इश्क़ सा होने लगा है।

क्या मुझे तेरी बाहों में पनाह मिल सकती है,
मुझे अपनी जिंदगी की आखिरी सांस लेनी है।

बडी मुख़्तसर वजह है, मेरे झुक कर मिलने की,
मिट्टी का बना हूँ, गुरुर जँचता नहीं मुझ पर।

रहकर तुझसे दूर, कुछ यूँ वक़्त गुज़ारा मैंने ना होंठ हिले,
ना आवाज़ आई फिर भी हर वक़्त तुझको पुकारा मैंने।

एहसान किसी का वो रखते नहीं, मेरा भी चुका दिया,
जितना खाया था नमक मेरा, मेरे जख्मों पर लगा दिया।

कौन शरमा रहा है आज यूँ हमें फ़ुर्सत में याद कर के..
हिचकियाँ आना तो चाह रही हैं, पर हिच-किचा रही है।

गलतफहमी से बढ़कर दोस्ती का दुश्मन नहीं कोई,
परिंदों को उड़ाना हो तो बस शाख़ें हिला दीजिए।🌹

रातो को आवारगी की आदत तो हम दोनों में थी,
अफ़सोस चाँद को ग्रहण और मुझे इश्क हो गया। 😪🍾

आज बता रहा हूँ नुस्खा-ए-मौहब्बत ज़रा गौर से सुनो,
न चाहत को हद से बढ़ाओ न इश्क़ को सर पे चढ़ाओ।🔥

मोहब्बत करने वालों को वक़्त कहाँ जो गम लिखेंगे
ए-दोस्तों, कलम इधर लाओ इन बेवफ़ाओं के बारे में हम लिखेंगे।

Beti-Betiyan Shayari Collection

Here is Largest Beti Betiyan Shayari Collection

खिलती हुई कलियाँ हैं बेटियाँ,
माँ-बाप का दर्द समझती हैं बेटियाँ,
घर को रोशन करती हैं बेटियाँ,
लड़के आज हैं तो आने वाला कल हैं बेटियाँ।

एक मीठी सी मुस्कान हैं बेटी,
यह सच है कि मेहमान हैं बेटी,
उस घर की पहचान बनने चली
जिस घर से अनजान हैं बेटी।

मातृशक्ति यदि नही बची तो बाकी यहाँ रहेगा कौन,
प्रसव वेदना, लालन-पालन सब दुःख-दर्द सहेगा कौन,
मानव हो तो दानवता को त्यागो फिर ये उत्तर दो इस..
नन्ही से जान के दुश्मन को इंसान कहेगा कौन।

बेटी को चांद जैसा मत बनाओ
कि हर कोई घूर घूर कर देखे..
किंतु.. बेटी को सूरज जैसा बनाओ
ताकि घूरने से पहले सब की नजर झुक जाये।

Beti To Bhagwan Ka Parsaad Hoti Hain,
Beti To Hamare Ghar Ki Barkat Hoti Hain,
Beti Hone Par Jo Miithai Baanten
Laxmi Ki Kripa Hamesha Unke Ghar Hoti Hain.

बेटे भाग्य से होते हैं पर बेटियाँ सौभाग्य से होती हैं,
बेटा अंश हैं तो बेटी वंश हैं, बेटा आन हैं तो बेटी शान हैं,
लक्ष्मी का वरदान हैं बेटी, धरती पर भगवान हैं बेटी।

BETIYAN 2 LINE SHAYARI

बेटे भाग्य से होते हैं
पर बेटियाँ सौभाग्य से होती हैं।

जरूरी नही रौशनी चिरागों से ही हो,
बेटियाँ भी घर में उजाला करती हैं।

सब ने पूछा बहु दहेज़ में क्या-क्या ले आई,
किसी ने ना पूछा बेटी क्या-क्या छोड़ आई।

माँ-बाप के जीवन में ये दिन भी आता हैं,
जिगर का टुकड़ा ही एक दिन दूर हो जाता हैं।

बेटी बचाओ और जीवन सजाओ,
बेटी पढ़ाओ और ख़ुशहाली बढ़ाओ।

मुझे पापा से ज्यादा शाम अच्छी लगती हैं,
क्योकि पापा तो सिर्फ खिलौने लाते हैं पर शाम तो पापा को लाती हैं।

पराया होकर भी कभी पराई नही होती,
शायद इसलिए कभी पिता से हँसकर बेटी की बिदाई नही होती।

बेटी को मत समझो भार, जीवन का हैं ये आधार,
बेटी है कुदरत का उपहार, जीने का इसको दो अधिकार।

दहेज में बहू क्या लायी ये तो सभी ने पूछा ,
लेकिन एक बेटी क्या-क्या छोड़ आयी ये किसी ने पूछा ही नहीं!

मुझसे मां से दो पल की जुदाई सही नहीं जाती हॆ,
पता नहीं बेटीयां ये हुनर कहां से लाती हॆं!!

बेटी भार नही, है आधार, जीवन हैं उसका अधिकार,
शिक्षा हैं उसका हथियार बढ़ाओ कदम, करो स्वीकार।

Betiyan Sab Ke Muqaddar Mein Kahan Hoti Hain,
Ghar Khudaa Ko Jo Pasand Aaye Wahan Hoti Hain..

BETIYAN POETRY AND POEMS

Bahut Chanchal Bahut Khushnuma Si Hoti Hain Betiya,
Nazuk Sa Dil Rakhti Hain Masoom Si Hoti Hain Betiya,
Baat Baat Par Roti Hain Nadan Si Hoti Hai Betiya,
Hai Rehmat Se Bharpoor Khuda Ki Nemat Ye Betiya,
Ghar Bhi Mehak Uthta Hai Jab Muskrati Hai Betiya,
Hoti Hai Ajib Si Kefiyt Jab Chhod Ke Chali Jati Hai Betiya,
Ghar Lagta Hai Suna Suna Kitna Rula Jati Hai Betiya,
Baabul Ki Laadli Hoti Hai Betiya,
Yeh Ham Nahi Kehte Yeh Toh ‘Khuda’ Kehta Hai Ke
Jab Main Bahut Khush Hota Hu Toh Paida Hoti Hai Betiya..

Beti Bankar Aayi Hun Maa-Baap K Jivan Me,
Basera Hoga Kal Mera Kisi Aur K Angan Mein,
Kyu Ye Reet Khuda Ne Banai Hogi,
Kehte Hai Aaj Nahi To Kal Tu Parai Hogi,
Deke Janam Paal-Poskar Jisne Hume Bada Kiya,
Aur Waqt Aaya To Unhi Hatho Ne Hume Vida Kiya,
Tut K Bikhar Jati Hai Humari Zindagi Wahi,
Par Phir Bhi Us Bandhan Me Pyar Mile Zaruri To Nahi,
Kyu Rishta Hamara Itna Ajib Hota Hai,
Kya Bas Yahi Hum Betiyon Ka Nasib Hota Hai?

Ghar Ki Chahal Pehal Hai Beti,
Jeewan Mein Ek Kamal Hai Beti!
Dhoop Kabhi Gunguni Suhani,
Kabhi Chand Si Sheetal Hai Beti!
Shiksha Gun Sanskaar Rop Do,
Phir Beto Jaisi Sabal Hai Beti!
Agar Sahara De Do Vishwas Ka,
Ganga Jal Si Paawan Hai Beri!
Prakriti Ke Sab Sadgunn Seencho,
Toh Prakriti Si Nicshchal Si Hai Beti!
Kyon Darte Ho Paida Karne Se?
Arre Aane Wala Kal Hai Beti!

Beti Ki Mohabbat Ko Kabhi Aazmana Nahi,
Woh Phool Hai Usse Kabhi Rulana Nahi,
Baap Ka Toh Maan Hoti Hai Beti,
Zinda Hone Ki Pehchan Hoti Hai Beti,
Uski Ankhe Kabhi Num Na Hone Dena,
Uski Zindagi Se Khushiya Kabhi Kam Na Hone Dena,
Ungli Pakad Ke Kal Jis Ko Chalaya Tha Tumne,
Phir Usko Hee Doli Mai Beethana Hai Tumhe,
Bahut Chota Sa Safar Hota Hai Beti K Saath,
Bahot Kum Waqt K Liye Hoti Hai Woh Hamare Pass!

Oas Ki Boond Si Hoti Hai Betiyan,
Sparsh Khurdara Ho To Roti Hai Betiyan,
Roshan Karega Beta To Ek Kul Ko,
Do Do Kulon Ko Ki Laj Hoti Hai Betiyan,
Koi Nahi Hai Ek Dusre Se Kam,
Heera Agar Hai Beta,
To Sucha Moti Hai Betiyan,
Kanton Ki Rah Par Yeh Khud Hi Chalti Hai,
Auron Ke Liye Phool Hoti Hai Betiyan,
Vidhi Ka Vidhan Hai,
Yahi Dunia Ki Rasam Hai,
Muthi Bhar Neer Si Hoti Hai Betiyan!

ओस की बुँद सी होती है बेटीयाँ,
सपर्श खुरदरा हो तो रोती है बेटीयाँ,
रोशन करेगा बेटा तो एक कुल को,
दो दो कुलो की लाज होती है बेटीयाँ,
कोई नही है एक दुसरे से कम,
हीरा अगर है बेटा तो सुचा मोती हैं बेटीयाँ,
काँटो की राह पर ये खुद ही चलती हैं,
औरो के लिए फुल होती है बेटीयाँ,
विधी का विधान है.. यही दुनीयाँ की रसम है,
मुठी भर नीर सी होती है बेटीयाँ।

बोये जाते हैं बेटे.. पर उग जाती हैं बेटियाँ,
खाद पानी बेटों को.. पर लहराती हैं बेटियां,
स्कूल जाते हैं बेटे.. पर पढ़ जाती हैं बेटियां,
मेहनत करते हैं बेटे.. पर अव्वल आती हैं बेटियां,
रुलाते हैं जब खूब बेटे.. तब हंसाती हैं बेटियां,
नाम करें न करें बेटे.. पर नाम कमाती हैं बेटियां,
जब दर्द देते बेटे.. तब मरहम लगाती बेटियां,
छोड़ जाते हैं जब बेटे.. तो काम आती हैं बेटियां,
आशा रहती है बेटों से.. पर पुर्ण करती हैं बेटियां,
हजारों फरमाइश से भरे हैं बेटे.. पर समय की नज़ाकत को समझती बेटियां।

Kyon Khuda Ki Khudaai Har Rishte Me Azeeb Hoti Hai,
Door Rahkar Bhi Beti Hi Maa Ke Sabse Kareeb Hoti Hai,
Deta Hai Daman Me Jiske Khuda Beti Ka Tohfaa,
Wo Aangan Pawan, Wo Maa Sabse Khushnaseeb Hoti Hai,
Milta Hai Kisi Ko Ghar Sone Ka, Koi Tarse Mamta Ko,
Door Rahkar Sahna, Toot Kar Sabko Chahna Hi Uski Tahzeeb Hoti Hai,
Chahta Hai Koi Beti Ka Pyar, Koi Paida Hone Se Pahle Deta Hai Mar,
Bete Ke Lalach Me Beti Ka Qatl, Un Logo Ki Soch Kitni Gareeb Hoti Hai!

1 of 152123456Last