True Shayari, Yaadon main hamari

यादों मैं हमारी वो भी खोये होंगे,
खुली आँखों से कभी वो भी सोए होंगे,
माना हँसना है अदा ग़म छुपाने की,
पर हँसते-हस्ते कभी वो भी रोए होंगे.

Yaadon main hamari woh bhi khoye honge,
Khuli aankhon se kabhi woh bhi soye honge,
Mana hasna hai aada gam chupane ki,
Par haste-haste kabhi woh bhi roye honge.